शरीर के लिए बड़े काम का है विटामिन ‘के’

विटामिन ‘के’ अन्य विटामिन की तरह हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी है। इसका सबसे महत्त्वपूर्ण काम यह है कि यह मानव शरीर में खून को जमने में मदद करता है। कविता देवगन से जानते हैं कि विटामिन ‘के’ में और कौन-से गुण और लाभ विद्यमान हैं।

मा नब का शरीर एक तरह से मशीन की भांति है। यह मशीन बेहतर से बेहतरीन काम कर पाए इसके लिए सही आहार का लेना जरूरी है। शरीर में अगर विटामिन, प्रोटीन, कार्बोहाइट आदि सही मात्रा में हों तो 

हम स्वस्थ रह सकते हैं। इस अंक में बात करते हैं विटामिन ‘के’ की। इसकी हमारे शरीर और स्वास्थ्य के लिए क्या अहमियत है। आइए जानते हैं यह काम क्या करता है।

दिल और हड्डी की हिफाजत

यह विटामिन कैल्शियम को हड्डियों में और धमनियों से बाहर रखता है। इसके साथ साथ यह ऑस्टियोपोरोसिस और दिल के दौरे को एक ही समय में रोकता है। इतना हो नहीं यह विटामिन एमजीपी नाम के प्रोटीन के कामकाज के लिए बेहद जरूरी है। यह प्रोटीन हड्डियों, दांतों और कार्टिलेज यानी कि नरम हड्डियों में मौजूद होता है।

थक्का जमने के लिए जरूरी विटामिन के प्रोथ्रोम्बिन का उत्पादन करता

है। यह खून का थक्का जमने के लिए जरूरी है। इसके बिना शरीर में लगने वाला एक छोटा सा कट भी ब्लड के बहने की वजह बन जाएगी। जाहिर है कि इससे स्थिति गंभीर भी हो सकती है।

गर्दे की पथरी की रोकथाम

Foods containing vitamin K

यूरिन प्रोटीन का उत्पादन करने के लिए विटामिन ‘के’ को आवश्यकता होती है। इससे हमारे गुर्दे सही काम कर पाते हैं। इस विटामिन को उपस्थिति गुर्दे की पथरी को बनने से रोकती है।

दिन भर में कितना लें विटामिन आपको बहुत ज्यादा चिंता करने की

आवश्यकता नहीं है। अच्छी बात है कि विटामिन ‘के’ की कमी बहुत आम नहीं है। ध्यान दें कि वसा में घुलनशील विटामिन शरीर में जमा नहीं होता है। यही वजह है कि यह नुकसान नहीं पहुंचाता।

 ऐसे में इसे नियमित रूप से अपने आहार में शामिल करना चाहिए। पुरुषों को कम से कम 80 माइक्रोग्राम प्रतिदिन और महिलाओं को 70 माइक्रोग्राम का सेवन करना चाहिए।

सामान्य कमी के लक्षण

घाव में खून का थक्का बनने में समय का लगना। खून के रंग का सा पेशाब होना और आंत से खून का आना। नाक से खून बहना और आंतरिक रक्तस्राव जोड़ों में दर्द, मासिक धर्म के दौरान बहुत अधिक दर्द होना।

हो सकता है एनीमिया

लंबे समय तक इसकी कमी से खराब खून को जमावट हो सकती है। सही समय पर ध्यान न दिया जाए तो घातक एनीमिया भी हो सकता है।

सलाद खाओ, बर्गर नहीं आंत में रहने वाले जीवाणु अच्छे स्वास्थ्य के

लिए आवश्यक लगभग आधे विटामिन ‘के’ की आपूर्ति करते हैं। ध्यान देने की बात है कि विटामिन ‘के’ का आहार में सेवन भी महत्वपूर्ण है। यह विटामिन पत्तेदार सब्जियां जैसे- (पत्ता गोभी, फूलगोभी, पालक), अनाज, सोयाबीन, पनीर, कलेजी, शतावरी और ग्रीन टी में मिलता है। हमारा शरीर सिर्फ आहार वसा के साथ विटामिन के को अवशोषित कर सकता है। 

इसलिए पत्तेदार हरी सलाद को ऑयल बेस्ड सलाद ड्रेसिंग के साथ खाना सबसे फायदेमंद है। उदाहरण के लिए सलाद बनाते समय ध्यान दें 

कि आप आधा कप कटी हुई, उबली हुई ब्रोकली को उबली हुई गाजर और स्प्राउट्स के साथ मिलाएं। सभी को एक ऑयल बेस्ड ड्रेसिंग से भरे चम्मच में डालें। जड़ी बूटियां अल्फाल्फा, बिछुआ, नेटल, जई के डंठल और केल्प में यह विटामिन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।

विटामिन के हट्टियों को मजबूत बनाए रखने के साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता को ढ़ है। देखा जाए तो कम वसा वाले आहार भी एक समस्या पैदा कर सकते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि विटामिन ‘के’ को लिपोप्रोटीन के जरिए शरीर में ले जाया जाता है।

 यह वही प्रोटीन है जो कोलेस्ट्रॉल का संवाहक है। ध्यान दें कि विटामिन ‘के’ को अवशोषित करने के लिए कुछ वसा आवश्यक है। सीरियल डाइटस यानी कि वे लोग जो मोटापे को एक गंभीर बीमारी की तरह लेते हैं 

सावधान रहें। कम वसा वाले आहार और उच्च प्रोटोन वाले मांसाहारी खाद्य पदार्थ जिनमें हरी सब्जियां नहीं होती, परेशानी पैदा कर सकते हैं।

Leave a Comment